भारतीय ओलंपिक संघ और राष्ट्रीय खेल महासंघों में उनकी स्वायत्तता के साथ पारदर्शिता और सुशासन को सुनिश्चित कैसे करें?

How to ensure transparency and good governance in Indian Olympic Association and National Sports Federations while ensuring their autonomy?
Last Date Jun 08,2015 00:00 AM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) भारत की राष्ट्रीय ओलंपिक समिति है और यह ...

भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) भारत की राष्ट्रीय ओलंपिक समिति है और यह अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति द्वारा मान्यतता प्राप्त है। अन्य बातों के साथ-साथ ओलंपिक खेलों तथा क्षेत्रीय स्पमर्धाओं जैसे राष्ट्र मंडल खेलों और एशियाई खेलों में भारतीय खिलाड़ियों और टीमों को तैयार करने और उनके भाग लेने की जिम्मेेदारी आईओए की है। आईओए की अन्य जिम्मेदारियों में राष्ट्रीेय खेलों का आयोजन तय करना और ओलंपिक अभियान को बढ़ावा देना शामिल है।

राष्ट्रीय खेल परिसंघ (एनएसएफ) खेल विधाओं के संवर्धन और विकास के लिए जिम्मेिदार हैं। राष्ट्रीय चैम्पियनशिपों के आयोजन तथा विश्व चैम्पयनशिप, एशियाई चैम्पयनशिप और राष्ट्रमंडल चैम्पैयनशिप में खेल विधाओं में भारतीय खिलाड़ियों और टीमों के भाग लेने की जिम्मेरदारी संबंधित राष्ट्रीय खेल परिसंघों की है।

आईओए और राष्ट्रीय खेल परिसंघ सोसायटीज पंजीकरण अधिनियम के अंतर्गत पंजीकृत स्वायत्त निकाय हैं। युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय लगातार इस बात पर बल देता रहा है कि आईओए तथा राष्ट्रीीय खेल परिसंघ अपनी कार्यप्रणाली तथा अंतरराष्ट्रीाय स्परर्धाओं में भागीदारी के लिए खिलाड़ियों के चयन में पारदर्शिता और सुशासन सुनिश्चित करें।

आप अपनी टिप्पणियां 7 जून 2015 तक भेज सकते हैं।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
187 सबमिशन दिखा रहा है
400
Gaurav singh_27 4 साल 6 महीने पहले

Sir, i am from UTTARAKHAND. Sports bodies are totally corrupted here... No facility, financial helps are provided to the sportsmen. So, we need some help from our state government. But our government doesn't support any sports exept fews. I want that every sports manage equally,and some steps should be taken to motivate every sport.

500
Varun Bisht 4 साल 6 महीने पहले

To ensure transparency & good governing it is essential that the sports federation & olympic association be run by former sportsperson if they are interested .They will surely provide good governance besides helping our sportsperson by their vast knowledge & to motivate them to perform their best .They will also help reduce their problems which they face every due to various issues like lack of money and facilities etc .They will surely have a good bonding with sportsperson .

49170
pradeep Shah 4 साल 6 महीने पहले

On 31-5-15 his speech Maan Ki baat Resp. PM Mr Narendra Modi has CONGRATULATED the successful students on BOARD EXAMINATION RESULTS, and CONSOLED the others stating TAKE FAILURE AS AN OPPORTUNITY, LAYS FOUNDATION FOR SUCCESS. But what about those DESERVING STUDENTS, WHO WERE LEFT BEHIND JUST FOR SAKE OF GREAT PRIVILEGED RESERVATION CATEGORIES, Resp. PM Mr NARENDRA MODI SIR what FOUNDATION should they consider.
Resp. PM Mr NARENDRA MODI SIR, do you have explanation or just MAKE IN INDIA speech

900
Ashok Kuamr Jha 4 साल 6 महीने पहले

olympic me tirandaji aur weight lifting and race (Dorne) ke liye aadiwashi state ilaka se child ko hire kare school se select kare wo log kabil to hote hain lekin unhe choose nahi kiya jata kyonki unka koi bhi relative powerfull jagah par nahi hota ya support ke liye nahi hota. village ke bachho me kafi hunar chhipa hota hai. lekin use koi nahi dekh pata hai. please ek sarkari team ho jo door daraj enterior village me jaye aur hunar wala ladka dhudhe aur promot kare. sahar me la kar. thanks

850
sudhir kumar 4 साल 6 महीने पहले

Lets take example of National Rifle Association of India. Bhatia and sons have made it their fiefdom. Last time Union Information minister Col Rathore also contested for the post its president but not allowed with out any reasons. Like it numerous sports federations/ associations do not want gud persons come in Federations.They have made federation their family affairs. Once Govt strictly implement rules and regulations, their wings automatic clipped.