भारत नवजात शिशु कार्य योजना (आईएनएपी)

India Newborn Action Plan (INAP)
Last Date Nov 30,2014 04:15 AM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

18 सितंबर 2014 को नई दिल्ली में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, डॉ ...

18 सितंबर 2014 को नई दिल्ली में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, डॉ हर्षवर्धन द्वारा भारत में नवजात शिशु संबंधी कार्य योजना का शुभारंभ किया गया। इस योजना के अंतर्गत देश में नवजात शिशु की मृत्यु को रोकने और मृत प्रसव को कम करने के लिए एक रणनीति तैयार की गई है। आईएनएपी न केवल नवजात मृत्यु और मृत प्रसव की दर को घटाने के लिए प्रभावी उपाय देगा बल्कि मातृ मृत्यु को कम करने के लिए भी सुझाव देगा। प्रस्तावित योजना के कार्यान्वयन, निगरानी, मूल्यांकन और विकास के लिए समयसीमा तय की गई है और भारत में नवजात शिशु के स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए कार्य कर रहे सभी हितधारकों से यह अपेक्षित है कि वह " 2030 तक एकल अंक एनएमआर " और "2030 तक एकल अंक एसबीआर " के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कार्य करें। आईएनएपी को मौजूदा आरएमएनसीएच+ के ढांचे में कार्यान्वित किया गया है जो एकता, समानता, लिंग, देखभाल की गुणवत्ता, अभिसरण, जवाबदेही, और भागीदारी जैसे सिद्धांतों का अनुसरण करेगी। इसको मुख्य रूप से इलाज सम्बन्धी पैकेज, मृत प्रसव और नवजात शिशु के स्वास्थ्य की देखभाल के छह स्तंभों पर बनाया गया है। इसके प्रभावी कार्यान्वयन के लिए डैशबोर्ड संकेतकों की एक सूची के साथ निगरानी और मूल्यांकन के लिए एक व्यवस्थित योजना का विकास किया गया है।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
1282 सबमिशन दिखा रहा है
1414090
Amit Srivastava 4 साल 9 महीने पहले

Problem of malnutrition may be curbed through effective Family Planning Measures, free distribution of dietary supplement among poor people, creating awareness about dangerous consequence of malnutrition and insanitation along with effective monitoring and control programs.

1414090
Amit Srivastava 4 साल 9 महीने पहले

देश में अनेक गर्भवती माताएं पेट भर खाना सिर्फ इसलिये नही खाती है क्योंकि वक्त बेवक्त शौच जाने जैसी बुनियादी सुविधा उन्हे हासिल नहीं है। नतीजतन गर्भ में पल रहा बच्चा तक कुपोषण का शिकार हो जाता है। एक अनुमान के मुताबिक तमाम प्रयासों के बावजूद भारत में आज भी 12 करोड़ शौचालयों की कमी है। हालांकि निराशा के इस आलम में एक राहत की बात है कि शौचालय बनाना सरकार की अब सर्वोच्च प्राथमिकता बन रहा है।

270
Dr Nirnhai 4 साल 9 महीने पहले

1.Improving d facilities in our nicu,picu 2.reducing d workload in d government hospitals by providing more residency seats so as d doctor patient ratio improves n quality health for all
Ex. Gynaecologist in a govt place n pediatrician is just one who has to b dere on call for day n night so hw cn u expect a great quality care??
Increase d no of quality doctors by increasing residencies in govt hospitals..n more jobs in govt sector for specialists

540
vivek vaish 4 साल 9 महीने पहले

Population control
1. Every parent has to deposit Rs. 2000 to obtain birth certificate or aadhaar card and Government will return this money after 18 years with an interest rate of 10%.

2. In case parent is not in state of deposit this money then father and mother has to undergo Surgical Sterilization(birth control) to obtain this certificate(which should be made mandatory)

This system can be made fool proof by adding few more things.