मसौदा राष्ट्रीय पुस्तक संवर्धन नीति पर सुझाव दें

Give Suggestions on Draft National Book Promotion Policy (NBPP)
Last Date Sep 11,2015 00:00 AM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

प्रस्तावित राष्ट्रीय पुस्तक संवर्धन नीति का उद्देश्य पुस्तकों को ...

प्रस्तावित राष्ट्रीय पुस्तक संवर्धन नीति का उद्देश्य पुस्तकों को बढ़ावा देने से संबंधित सभी प्रमुख पहलुओं पर विचारों के आदान-प्रदान की सुविधा देना है। अन्य बातों के साथ-साथ इसमेंलेख/लेखन कार्य,पुस्तक रचना, उनका प्रकाशन और विक्रय, कीमत, कापीराइट मुद्दे, पुस्तक पढ़ने की रूचि विकसित करना, देश के विभिन्न भागों के लोगों की आवश्यकतानुसार विभिन्न भारतीय भाषाओं में पुस्तकों की उपलब्धता एवं उनकी गुणवत्ता एवं विषयवस्तु शामिल है। राष्ट्रीय पुस्तक संवर्धन नीति के प्रारूप में विभिन्न मंत्रालयों/विभागों से प्राप्त टिप्पणियों को भी शामिल किया गया है तथा इसे अंतिम रूप देने से पूर्व आपके सुझाव/टिप्पणियां आमंत्रित है जिन्हें आप mygov.in पर भेज सकते हैं।

मसौदा राष्ट्रीय पुस्तक संवर्धन नीति पर अपने इनपुट्स/सुझाव दें।

आप अपने विचार 10 सितंबर, 2015 तक साझा कर सकते हैं।

See Details Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
1225 सबमिशन दिखा रहा है
920
Naveen Damle 4 साल 2 महीने पहले

Sir, Please make a mandatory subject across India in all the schools and colleges "Citizen’s responsibility"
Clean India
Traffic rules importance
Ethics and integrity
Not bribing
Punishments
Environmental protection
Human life values
Helping / Respecting others
This lesson should be introduced from the 1st standard and it should be continued till the graduation.

500
Manoj kumar Singh_31 4 साल 2 महीने पहले

We can provide few mobile numbers on every i-ticket/e_ticket and that numbers must be available with the escort team, TTE or train superintendent to help & serve the passengers wherever and whenever there is an emergency and need. To stop misuses we can impose fines as the provisions are there for the chain pullers those who are not serious.

500
Manoj kumar Singh_31 4 साल 2 महीने पहले

An website could be created with a search engine where we can find the available Indian books on different topics and languages.As my father has translated whole VAGAWAD GEETA into beautiful Hindi POETRY. He says that it's a first of creation. Translations has been done earlier also but it has not been done in form of POETRY which is slok-wise with extra TIKA &TIMPANI in very easy Hindi. We don't know whether our Dad is wrong or right. He is 80 and a retired Teacher.

600
Dr sarthak gavali 4 साल 2 महीने पहले

In todays world of internet the option of ebook can be very handly and popular.promoting good writers and upholding their skill is necessary. Great works of ancient and contemprary writers should be promotedthrough ads on the internet and other media sources. Children should be encouraged to read gud books

4140
narendra kumar 4 साल 2 महीने पहले

यदि दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति का प्राथमिक उपचार हो जाए तो जब तक एंबुलेंस पहुंचे तब तक वह ज़िंदा रहेगा. कभी कभी तो केवल प्राथमिक उपचार से काम चल जाता है. उसके लिए एंबुलेंस बुलाने की भी जरुरत नहीँ पड़ेगी.

4140
narendra kumar 4 साल 2 महीने पहले

ट्रैफिक पुलिस वालोँ का whatsapp पर ग्रुप बनाकर एक वीडियो शेयर कर सकते हैँ जिसने प्राथमिक उपचार के बारे मेँ दिखाया गया हो.

4140
narendra kumar 4 साल 2 महीने पहले

शहरो के चौराहे पर एक प्राथमिक उपचार पेटीका लगा सकते हैँ ताकि जब उस चौराहे के नजदीक कोई दुर्घटना हो तो ट्रैफिक पुलिस वाला उसका प्राथमिक उपचार कर सके. ताकि दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति अस्पताल तक जिंदा पहुंच सके.

400
vinodpareek 4 साल 2 महीने पहले

E-Book policy mai badlav ki avsyakta hai.Manyvar pradhaan mantri g ne digital India ka jo sapna dekha hai yehi madad karega .Paper lace work ho sakta hai tau Books kyon Nahi.Aisa server taiyar kiya jaye jo hindi ke saath anya bhariya bhasa mai Anuwad kar sake.ha,books vaisi hi PDF or anya format mai usi prakar uplabdh ho.Aaj Pustak se adhik vewsal or Picture ,TV adhik dekha jata hai.kimat bhi kam ho .