Azadi Ka अमृत महोत्सव के लिए आइडिया और सुझाव दें

Last Date Aug 15,2021 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कई मौकों पर वर्ष 2022 तक एक ...

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कई मौकों पर वर्ष 2022 तक एक नया और आत्मनिर्भर भारत के निर्माण को लेकर अपना दृष्टिकोण साझा किया है।
आपको मालूम होगा कि हमारा महान राष्ट्र अब भारतीय स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ (आज़ादी का अमृत महोत्सव) से महज 75 सप्ताह दूर है।

इस मौके की याद में माईगव आत्मनिर्भर भारत के लिए विचारों को क्राउडसोर्स करने के लिए ’आइडिया बॉक्स’ शुरू कर रहा है।
आप कल के भारत की कल्पना कैसे करते हैं, जो भारत सबसे आधुनिक, वैश्विक दृष्टिकोण के साथ सर्वश्रेष्ठ परंपरा का विलय करेगा?

निम्नलिखित विषयों पर हमारे साथ अपने बहुमूल्य विचार साझा करें:
• शासन
• विकास
• प्रौद्योगिकी
• सुधार
• वर्षों से प्रगति और नीति
• कोई अन्य

आप एक लेख, फोटो या वीडियो के प्रारूप में अपने इनोवेटिव विचारों को शेयर कर सकते हैं।

माईगव एक जनसहभागिता मंच है जो जनभागीदारी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और नीतियों को बनाने और विभिन्न सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों को आकार देने के लिए उनकी राय लेता है। नागरिक इस प्लेटफार्म के माध्यम से अपने विचारों को मूल नीति के मुद्दों पर, सुझाव देने, प्रतिक्रिया देने और बड़े पैमाने पर चर्चा, कार्य, चुनाव, वार्ता, आदि के माध्यम से शासन प्रक्रिया में भाग लेने में सक्षम हैं।

जमा करने की अंतिम तिथि 15 अगस्त 2021 है।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
12284 सबमिशन दिखा रहा है
11400
Sattar Khan Kayamkhani 16 मिनट 35 सेकंड पहले

एक वर्ष तक कोरोना काल के बावजूद भी चिकित्सा संस्थान और दवाईयों की प्रोडक्शन व आपूर्ति नहीं होना सरकार की विफलता का द्योतक है।अब भी समय रहते मेडिकल ढ़ांचा सुदृढ़ कर लिया जाना चाहिए। अन्यथा भारतीय कहीं के नहीं रहेंगे।

4668280
ARUN KUMAR GUPTA 24 मिनट 57 सेकंड पहले

As per new ICMR guidelines, no retesting is required for once detected covid +.
How Arogya Setu app will declare 'You are Safe' if negative report is not uploaded.
He would remain in 'Red' and would not be able to go anywhere.
So, it seems retesting would be required indirectly.
Incomplete guidelines create confusions and chaos.

31450
Rajeev Singh 1 घंटा 59 सेकंड पहले

आदरणीय मोदी जी जो जीवित रहेंगे तो कुछ देखेंगे मैने अपने 3 संबंधियों की मौत 8 दिन मे देखी है अब तो स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार करो नहीं तो आपको कोई माफ नही करेगा।

16790
Shivang Dixit 1 घंटा 11 मिनट पहले

एक ज़माने में अपने घर और दूध में से मलाई मलाई से माखन औऱ घी निकालते थे अब बहार तैयार मिलता है और रहेगा ये band करवा दो सिर्फ घर पर दूध मिलेगा या लोग गाय गौ माता को पाले और देखभाल करें घर पर माखन मलाई घी बनाऐं तंदुरस्त रहे

31590
Pradeep 1 घंटा 23 मिनट पहले

UK universities have been unethically collecting data of Indians and serving those data to their politicians. We need a data privacy law on priority to save the privacy of citizens. Digital India needs to be complemented by rigid IT privacy laws to safeguard national security and privacy of Indians. Most of the riots world wide are instigated by online content which are data driven. Emotional manipulation through online content can easily trigger communal disharmony and riots.

27640
Hansa patidar 1 घंटा 49 मिनट पहले

आजादी का अमृत महोत्सव,
75 वा मनाया जा रहा है इसमे शायद पिछले 75 साल में ऎसा संकट नहीं आया होगा और न ही किसी सरकार ने इतने कार्य किए होंगे जो मोदी सरकार कर रही है.. ऎसे संकट की घडी में भी हमारे राजा सहसा से काम कर रहे हैं ये हमारे लिए गौरव की बात है..
जय हिन्द

3440
SUJAY DAS 1 घंटा 57 मिनट पहले

1.We have done independence but still the poor people are not willing to do their job properly in any department.
2.Yet the big officers of any department, they think of themselves as something huge, do not try to understand the suffering of ordinary people .Besides,we have got freedom.
3.The world with ordinary people, my only request to you, if you start investigating from the ground up, many people will suffer a lot. If you remove that, will people get AZADI on that day. satyameva jayate