Gandhi@150 के अवसर पर समारोह

Last Date Oct 02,2019 17:00 PM IST (GMT +5.30 Hrs)

जिस महान व्यक्तित्व ने पूरी दुनिया को बताया कि सौम्यता व विनम्रता से ...

जिस महान व्यक्तित्व ने पूरी दुनिया को बताया कि सौम्यता व विनम्रता से दुनिया बदली जा सकती है। उनकी 150 वीं जयंती के साथ एक नई शुरुआत की जा रही है। वे अपने पीछे नैतिकता, आत्मसम्मान, क्षमा, अहिंसा और सत्याग्रह आदि की विरासत छोड़ गए हैं। अब दुनिया तेजी से विकसित हो रही है और सभी के सतत और समावेशी विकास के लिए कुछ पहलूओं पर ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है।

गांधी स्मृति और दर्शन समिति इस डिजिटल मंच पर आपको खुली चर्चा के लिए आमंत्रित करती है जहां आप अपने बहुमूल्य विचारों को साझा कर सकते हैं।

इन विचारों को महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती समारोह के लिए समर्पित विभिन्न कार्यक्रमों के संचालन में समिति द्वारा उपयोग किया जा सकता है।

भेजने की अंतिम तिथि अक्टूबर 2, 2019 शाम 5 बजे तक है।

See Details Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
1735 सबमिशन दिखा रहा है
4120
Devendra Baghel 5 घंटे 4 मिनट पहले

अहिंसा किसी को मानसिक, शारीरिक और बौद्धिक स्तर पर कभी भी मारना नहीं, दुःख पहुंचाना नहीं। भारत देश और विश्व स्तर पर इससे पहले ढेरों महापुरुषों ने अहिंसा के तत्त्व का स्वीकार किया था परंतु जिस युग में अहिंसा की बात करना बडा साहस था। परंतु गाधी जी को भारतीय सभ्यता और संस्कृति पर विश्वास था। उन्होंने विपरीत परिस्थितियों में ‘अहिंसा’को अजमाकर देखा। बिना शस्त्र उठाए, बिना खून-खराबा किए‘सत्याग्रह’और ‘अहिंसा’के आधार पर भारत देश को आजाद बनाने में सफलता पाई।

380
Kajal Singh 5 घंटे 37 मिनट पहले

Baapu taught us how Self dependence can help a person to know his endless limits, and how life becomes so easy when we are self dependent.
For students also, self dependence should be the most important attribute. Today's generation has so many opportunities and platforms but still maximum students are dependent either on their parents, friends or teachers. This manner should be changed, then only a student can enjoy his/her freedom of knowledge and can achieve great level of success.

100
merchant cash advance leads 7 घंटे 18 मिनट पहले

Mahatma Gandhi was the leader of India's non-violent independence movement against British rule and in South Africa who advocated for the civil rights of Indians. Born in Porbandar, India, Gandhi studied law and organized boycotts against British institutions in peaceful forms of civil disobedie. Born and raised in a Hindu family in coastal Gujarat, western India, and trained in law at the Inner Temple, London.
https://www.mcaleadsworld.com/merchant-cash-advance-leads/

9800
RG Jepsin Raj 7 घंटे 54 मिनट पहले

Mohandas Karamchand Gandhi (2 October 1869 – 30 January 1948) was an Indian lawyer, anti-colonial nationalist,and political ethicist, who employed nonviolent resistance to lead the successful campaign for India's independence from British Rule, and in turn inspire movements for civil rights and freedom across the world. gandhi ji is the one man india and father of the nation

8520
shramad timblo 8 घंटे 7 मिनट पहले

According to Gandhi education is the realization
Of the best in man body ,soul and spirit.
He maintain that education must be based on
Ethies and morality.
Gandhi expresshis viewson education through a
Series of articles in Harijan in june 31,1937 which
Later on develope.
He thought that education is closely associated with
the socio economic development of the society.
He took up scheme for basic education in which
Vocational training or work experience is the utmost
Important.