Gandhi@150 के अवसर पर समारोह

Last Date Jan 30,2020 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)

जिस महान व्यक्तित्व ने पूरी दुनिया को बताया कि सौम्यता व विनम्रता से ...

जिस महान व्यक्तित्व ने पूरी दुनिया को बताया कि सौम्यता व विनम्रता से दुनिया बदली जा सकती है। उनकी 150 वीं जयंती के साथ एक नई शुरुआत की जा रही है। वे अपने पीछे नैतिकता, आत्मसम्मान, क्षमा, अहिंसा और सत्याग्रह आदि की विरासत छोड़ गए हैं। अब दुनिया तेजी से विकसित हो रही है और सभी के सतत और समावेशी विकास के लिए कुछ पहलूओं पर ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है।

गांधी स्मृति और दर्शन समिति इस डिजिटल मंच पर आपको खुली चर्चा के लिए आमंत्रित करती है जहां आप अपने बहुमूल्य विचारों को साझा कर सकते हैं।

इन विचारों को महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती समारोह के लिए समर्पित विभिन्न कार्यक्रमों के संचालन में समिति द्वारा उपयोग किया जा सकता है।

भेजने की अंतिम तिथि जनवरी 30, 2020 है।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
4105 सबमिशन दिखा रहा है
450
Anil kushwaha 3 घंटे 39 मिनट पहले

Mahatma Gandhi was born on 2 October 179 in Porbandar, Gujarat, into an aristocratic family. The name was Mohandas Karamchand Gandhi. After passing his matriculation examination he went to England to study law. He returned to India from England as a lawyer in 1890. Shortly after his arrival in India, he had many difficulties under English rule in South Africa.
https://www.gyanipapa.com/mahatma-gandhi/

22480
Gagan kaur 6 घंटे 57 मिनट पहले

महापुरषोमैं एक नाम गाँधी जी का है बहुत ही सादा जीवन जीने मई विश्वाश रखने वाले और मानव हितो के लिए अपने जीवन को समर्पित कर दिया

570
Purusottam Sahoo 11 घंटे 54 मिनट पहले

A person wanting to dispose a particular portion out of a apiece of land from his own share out of other share holders is being faced with much difficulties or even being unable to dispose to meet his required needs while the rest of the other legal heirs are either dead,or married and dead or habituated at far off places or having rivalries or a mix of all.A simplification method may be carried out not to deprive the person from his fundamental rights.

3210
vijay rana 1 day 1 घंटा पहले

Dear Sir or Madam,

Please increase the number of courts and extend the existing courts and appoint more and more judge so that the cases are resolved quickly.

Please increase the size of courts by 3 times from its current size. if you can't open new courts in the country then redevelop the existing courts and appoint more and more judges in it.

As you know there are more than 4 crores cases in our courts. this need your special attention.

please carry a research and take decision