अपने कैमरे की नज़र से दिखाए भारतीय वास्तुकला की सर्वश्रेष्ठता - स्वस्तिक फोटोग्राफी प्रतियोगिता

Indian Architectural Heritage through Your Lens - SVASTIK Photography Contest
आरंभ करने की तिथि :
Oct 07, 2022
अंतिम तिथि :
Nov 30, 2022
23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

भारत में विविध विषयों में जीवन के विभिन्न क्षेत्रों को छूने वाली ...

भारत में विविध विषयों में जीवन के विभिन्न क्षेत्रों को छूने वाली प्रथाओं और पारंपरिक ज्ञान की समृद्ध विरासत है। वास्तुकला भारतीय पारंपरिक ज्ञान के प्रमुख क्षेत्रों में से एक है। देश के विविध सामाजिक-सांस्कृतिक, पारंपरिक और धार्मिक इतिहास और जलवायु परिस्थितियों के कारण, विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न स्थापत्य शैली विकसित हुई है। भारतीय वास्तुकला का विकास कई शासकों के उत्थान और पतन से भी प्रभावित रहा है।

इसके अलावा, कई बार अन्य क्षेत्रों से भी आक्रमण हुए हैं। वे अपनी संस्कृति, धर्म और रीति-रिवाजों को भारत में साथ लाए। इस प्रकार, बाहरी प्रभावों ने भी भारतीय वास्तुकला के विकास में योगदान दिया है। प्राचीन और मध्यकालीन भारत की अधिकांश जीवित कला और वास्तुकला धार्मिक है, जबकि अन्यों में क्षेत्रीय राज्यों की झलक हैं। इसके अलावा, प्राचीन वास्तुकला कला और विज्ञान का उत्कृष्ट मिश्रण है। एक संरचना विकसित करते समय, सभी पर्यावरणीय संभावनाओं को ध्यान में रखा जाता है।

हर आर्किटेक्चर का उद्देश्य एक उपयोगी सुविधा तैयार करना है जो हर समय की परिस्थिति को झेल सके। इसलिए, पारंपरिक वास्तुकला में अंतर्निहित विज्ञान की समझ सतत प्रौद्योगिकी विकास में योगदान कर सकती है। कुछ भारतीय पारंपरिक वास्तुकला, जैसे कि रामप्पा मंदिर, अच्छी तरह से उल्लेखित हैं, जबकि कई उल्लेखित नहीं हैं। इसके अलावा, वैश्वीकरण और पश्चिमी विज्ञान को अपनाने के कारण, हमारी पारंपरिक ज्ञान प्रणालियों में तेजी से गिरावट देखी गई है। इस परिदृश्य में, पारंपरिक ज्ञान का संरक्षण सर्वोपरि है।

भारतीय पारंपरिक वास्तुकला को संरक्षित करने के उद्देश्य से, NIScPR-SVASTIK “अपने कैमरे की नज़र से दिखाए भारतीय वास्तुकला की सर्वश्रेष्ठता - स्वस्तिक फोटोग्राफी प्रतियोगिता” को माईगव के के साथ मिलकर आयोजित कर रहा है। इस राष्ट्रीय पहल में भाग लेकर, आप क्षेत्रीय वास्तुशिल्प के प्रलेखन और पारंपरिक भारतीय वास्तुकला के संरक्षण में योगदान दे सकते हैं। क्या आप प्राचीन भारतीय वास्तुकला, इसकी ज्यामिति और इसकी इंजीनियरिंग की वैज्ञानिक व्याख्या के बारे में एक ही छवि के माध्यम से आकर्षक उल्लेख दे सकते हैं?

पुरस्कार
फोटो प्रतियोगिता में, SVASTIK, CSIR-NIScPR विजेताओं को आकर्षक पुरस्कार प्रदान कर सम्मानित करेगा।

तस्वीर के मानदंड:
• उस विज्ञान का वर्णन करें जो पारंपरिक भारतीय वास्तुकला का आधार है।
• प्रदर्शित करें कि कैसे पारंपरिक भारतीय ज्ञान और वास्तुकला विज्ञान और कला के माध्यम से समाज में योगदान करते हैं।
• भारतीय पारंपरिक वास्तुकला प्रौद्योगिकियों के अंतर्निहित वैज्ञानिक तर्क की व्याख्या करें।
• स्थापत्य संरचनाओं की कला, आकृति और निर्माण के संबंध में वैज्ञानिक तथ्य प्रदान करें।
• उन वैज्ञानिक खोजों के इतिहास का अन्वेषण करें जिनके कारण स्थापत्य संरचनाओं का निर्माण हुआ।

निम्नलिखित लिंक आपको वास्तुकला पर SVASTIK कहानियों में से एक पर ले जाएंगे, जिसका आप एक उदाहरण के रूप में उपयोग कर सकते हैं –
https://twitter.com/niscpr_svastik/status/1572125653327314944?s=24&t=iucRIKedXw8aqxp0hP-1QA

तस्वीर जमा करने की अंतिम तिथि 30 नवंबर 2022 है

नियम और शर्तों के लिए यहां क्लिक करें (पीडीएफ-120 केबी)

इस कार्य के लिए प्राप्त हुई प्रविष्टियाँ
442
कुल
0
स्वीकृत
442
समीक्षाधीन