Know of Any Unsung Heroes of the Freedom Movement? Tell Us!

Know of Any Unsung Heroes of the Freedom Movement? Tell Us!
Start Date :
Aug 06, 2021
Last Date :
Aug 15, 2022
23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)

As part of the 'Bharat Ki Azadi Ka Amrit Mahotsav' celebrations, a series of events are being organized by the Government of India to commemorate the 75th Anniversary of India’s ...

As part of the 'Bharat Ki Azadi Ka Amrit Mahotsav' celebrations, a series of events are being organized by the Government of India to commemorate the 75th Anniversary of India’s Independence.

Through this MyGov activity, we aim to revisit history and acknowledge our local heroes whose struggles during the Freedom Movement have not received prominence in the conventional storyline. Let's raise awareness about our freedom struggle & the unsung heroes associated with it. It’s time that the contributions of fighters like Veer Gundandhur, Velu Nachiyar, Bhikaji Cama, etc. see the light of the day.

This is your chance to tell the story that must be told and honour the freedom fighters who have played an important role in making our nation free.

Share the stories with all the details and celebrate Bharat Ki Azadi Ka Amrit Mahotsav with us.

Submission of Entries:
• All the entries must be submitted online through www.mygov.in
• No other medium of submission will be accepted
• Share the following details while mentioning the story of our Unsung Fighter so that everybody can know more about them:
1. Name
2. Age
3. Address
4. District
5. State
6. Stories About their Contribution to Freedom Movement
7. Photos (if any)
8. Link to Videos/Audios (if any)

Let’s recognize and honour the unsung heroes of India's Independence!

The last date for the submission of entries is 15th August 2022.

Reset
Showing 4065 Submission(s)
2400
Sheela Sharma 1 hour 30 minutes ago

These unsung heroes they were the brave soldiers and they have done alot for a country they have not only sacrificed their lives but also made them to be aware that as well as to learn how to protect and save our country from the outsiders

300
user_2518 2 hours 22 minutes ago

आजादी का अमृत महोत्सव, मेरे लिए गर्व की बात है की मैं आजाद भारत में सांस ले रहा हू। मैं सभी आजादी के मतवालों को ह्रदय से बार बार नमन करता हू,
वर्तमान प्रधानमंत्री जी से मैं बहुत प्रभावित हू की वो हमारी संस्कृति हमारा इतिहास कायम रख रहे हैं ।
मेरा यह अनुरोध हैं की अंग्रेजों व मुगलों ने जो हमारा इतिहास मिटा दिया हैं उसे पुनः स्थापित करें, जैसे अकबर रोड का नाम बादल कर पारशूराम रोड किया जा सकता हैं।
धन्यवाद

10400
ratna nashine 2 hours 27 minutes ago

अबूझमाड़ के गुमनाम शहीद
“पराधीन सपने सुख नाही” किसी के अधीन रहकर सुख की कल्पना बेमानी है चाहे वह मनुश्य हो या अन्य जीव सब स्वतंत्रता चाहते हैं। स्वतंत्रता किसे अच्छी नही लगती है। सम्पूर्ण भारत भी अँगेजों की गुलामी से आजाद होने के लिये छटपटा रहा था। सभी ओर छुटपुट घटनायें हो रही थी। सब अपने सामर्थ से अँगेजी हुकूमत से लोहा ले रहे थे ऐसे में बस्तर का आदिवासी कैसे चुप बैठा रहता। जिसका स्वाभाविक गुण स्वच्छन्दता है। सीधा सरल स्वाभिमानी आदिवासी कभी किसी से झगड़ा नहीं करता है, मगर जब उसपे बन आती है, तब वह हथियार उठा लेता है। वह अँग्रेज और मराठाओं के बेवजह जबरन थोपे गये नियम कानूनों से उकता गया था और अपनी सुखमय जीवन के लिये कशमश रहा था। बस्तर का आदिवासी अपने जीवन में किसी का दखल पसन्द नहीं करता, मगर इधर स्टैट गौरमेन्ट के आदमी उनके गाँवों में आकर उनके बकरा मुर्गा को बिना मोल दिये ले जा रहे थे। उनसे अपना डोला उठवा रहे थे। डोला में बैठकर स्टैट के आदमी एक गाँव से दूसरे गाँव आया जाया करते थे। यह स्वाभिमानी आदिवासियों के लिये लज्जा का विशय था। यही कारण था, अबूझमाड़ विद्रोह का, जिसका नेतृत्व

900
DheerajDwivedi 5 hours 20 minutes ago

जी हां हमारे क्षेत्र के थे जिन्हें अंग्रेज लोग काला भूत (ब्लैक होस्ट) कहते थे। क्योंकि वो बहुत लंबे-चौड़े और बहुत काले थे।
उनका नाम बुद्धू महात्मा था।
जंघई स्टेशन लूटने और भी कई घटनाओं में भाग लिए थे।

धीरज द्विवेदी
प्रयागराज
9956629515
8318757871

1820
Harshit Bansal 13 hours 45 minutes ago

माननीय प्रधानमंत्री जी नमस्कार,मै 26 वर्षीय भारतीय युवा हूँ!मैंने पिछले 5 वर्षों मे राष्ट्रीय सुरक्षा एवं अखंडता के विषय पर रिसर्च की है! इस विषय से सम्बंधित कुछ ब्रिटिश कालीन एवं स्वतंत्रता के बाद के साक्ष्य एवं प्रमाण एकत्रित किए है! जिनको मै माननीय प्रधानमंत्री जी आपके समक्ष रखना चाहता हूँ! माननीय प्रधानमंत्री जी की व्यस्तता एवं प्रोटोकॉल के कारण आपसे किसी आम नागरिक का मिलना कठिन है! मैंने 2 वर्षों से प्रयास किए परन्तु असफलता मिली! मैं इस विषय को सार्वजनिक नहीं करना चाहता हूं! माननीय प्रधानमंत्री जी आप मेरे प्रेरणा स्रोत हैं सदैव आप से सीखा है कि कुछ बनने के लिए नहीं कुछ करने के लिए सोचना चाहिए! माननीय प्रधानमंत्री जी मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि मैं आपका समय व्यर्थ नहीं करूंगा! यह समय एवं परिस्थिति इस विषय के अनुकूल है! मान्यवर मैंने अपनी इस रिसर्च के बारे में अपने परिवार के सदस्यों को भी नहीं बताया क्योंकि मेरे लिए राष्ट्र सर्वोपरि है! मैंने एकत्रित साक्ष्य एवं ब्रिटिश पार्लियामेंट्री रिकॉर्ड, रेडक्लिफ आयोग लेटर अन्य कई साक्ष्यों को सुरक्षित रखा है!

300
JAYATIBHATTACHARYA 14 hours 21 minutes ago

Durga Bhabhi, rose on the horizon of India 's freedom fighter tremendouslution influence on revolutionaries like Bhagat Singh, Ashfaqpullah and Chandrashekhar Azad. She was one of the woman revolutionaries who actively participated in armed revolution in against the rulling British Raj.