नई औद्योगिक नीति तैयार करने हेतु सुझाव आमंत्रित

Last Date Sep 26,2017 00:00 AM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग ने मई ...

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग ने मई 2017 में एक नई औद्योगिक नीति तैयार करने की प्रक्रिया शुरू की। चूंकि पिछली औद्योगिक नीति की घोषणा 1991 में हुई थी और अब भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक बन गया है। पिछले तीन सालों में सूक्ष्म-आर्थिक मूल सिद्धांतों और कई नियमों में व्यापक सुधार और नई रणनीतियों के जरिए भारतीय उद्योग को विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाया जा सका है। नई औद्योगिक नीति के तहत राष्ट्रीय विनिर्माण नीति को भी शामिल किया जाएगा।

औद्योगिक नीति तैयार करने के लिए एक परामर्शदात्री दृष्टिकोण अपनाया गया है जिसके तहत छह विषयगत समूहों से डीआईपीपी वेबसाइट पर एक ऑनलाइन सर्वेक्षण के जरिए सुझाव लिया जाएगा। फोकस ग्रुप में सरकारी विभागों, औद्योगिक संगठनों, शिक्षाविदों और उद्योग की खास चुनौतियों के विशेषज्ञों को शामिल किया गया है। छह विषयगत क्षेत्रों में विनिर्माण और एमएसएमई; प्रौद्योगिकी और नवाचार; व्यापार में सुगमता; अधोसंरचना, निवेश, व्यापार और राजकोषीय नीति और भविष्य के लिए कौशल और रोजगार शामिल हैं। भारत के आर्थिक परिवर्तन के लिए कृत्रिम इंटेलीजेंस पर एक टास्क फोर्स का गठन किया गया है जो नीति के लिए इनपुट प्रदान करेगा।

नई औद्योगिक नीति का उद्देश्य 'मेक इन इंडिया' को बढ़ावा देते हुए भारत को एक विनिर्माण केंद्र बनाना है। उन्नत विनिर्माण के लिए आईओटी, कृत्रिम इंटेलीजेंस और रोबोटिक्स जैसी आधुनिक स्मार्ट प्रौद्योगिकियों का यथोचित उपयोग भी प्रस्तावित है।

इस संबंध में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), श्रीमती निर्मला सीतारमण चेन्नई, गुवाहाटी और मुंबई में उद्योग जगत के विशिष्ट लोगों के साथ-साथ अन्य हितधारकों और राज्य सरकारों के साथ भी चर्चा करेंगी। औद्योगिक नीति की घोषणा अक्टूबर 2017 में किए जाने की संभावना है।

नई नीति को तैयार करने हेतु डीआईपीपी जनता से टिप्पणियां, प्रतिक्रिया और सुझाव आमंत्रित करती है।

सुझाव भेजने करने की अंतिम तिथि 25 सितंबर, 2017 है

See Details Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
560 सबमिशन दिखा रहा है
480
sachin hiray 2 साल 1 महीना पहले

We should focus on development of brand of small daily use things like Ball Pen, Pencil or other such small daily use things..like Japan which produces Ball Pens with good quality, this result into creation Brand of Made in Japan as household mantra...After excelling in small things then we step up for high impact products.. Due to The impact of small quality things which are Made in India becomes household name which is useful for acceptance next generation products from India.

3750
Vinayak Shankarrao Khare 2 साल 1 महीना पहले

Sir,
After going through discussion paper it is felt that we should formulate Vision and Mission statement for our industrial policy so that we can work with focus. Categorisation of industries will also help us in formulation of policy for that specific category and preparation of docket. Some thoughts are given in attached paper. Since I noticed this discussion point late, probably not done justice to such important topic as I have to put up points hurriedly. May be useful.

3420
D Mohan 2 साल 1 महीना पहले

The decision to phase out Petrol and diesel cars in the long run is right decision.So India must move towards related manufacturing in three sectors:
1)Put up manufacturing plants for manufacture of Lithium-ion batteries in mass scale close to the four metros
2)All the auto-manufacturers to change over to manufacturing of Electric cars ,Buses and two-wheelers gradually over the next one decade with govt.incentivizing through suitable tax breaks etc.
3)build charging stations parallely.

2130
Soumya Bose 2 साल 1 महीना पहले

1 crore jobs can created only through greatness not on averageness. They as employees will feel great while working in those companies than as individuals.
Policy should focus on power of Synergy. We are average as individuals but great as Company.
Thrive for a great rather than an average policy. It will yield great results instead of average results. Which in turn change life of average Indian to a great one.

2130
Soumya Bose 2 साल 1 महीना पहले

Which in turn is the current norms where Average is greater than Greatness itself.
We are average product manufacturer with average manpower and average profit selling to average citizens.
This status quo of average is disastrous for any society especially when its population is under 35.
Demographic dividend only pay if we set greatness ahead of average ness..
So we have to build a great policy not average policy which indeed produce a great result not an below average result.

2130
Soumya Bose 2 साल 1 महीना पहले

Entrepreneurs will need capital other institutional opportunities like in industrialized nations.
A case to case basis approach won't work.
Every future device be it car or farm or medical equipments all are digital and IoT in it.
So electronics is the field need support for innovation & production.
Failure is the norm for these ventures. So financial back up for them is must.
The traditional do or die appoach won't work. If they die it will encourage only mediocrity and not meritocrity.

2130
Soumya Bose 2 साल 1 महीना पहले

Small is big....
German Economic Miracle depends upon not only big corporations but on Mittelstand(MSME)..
So policy for MSME is a must focus than big corporations.
They need finance,manpower,market...policy should address these concerns...
Tech companies like Apple & Microsoft started from micro level. Even China figured out ways to improve Electronics manufacturing. The Industrial Revolution 4.0 would only be a dream if idea is not nurtured through proper policy.