पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय

Created : 16/05/2017
Click to participate above Activities

समुद्र विकास विभाग जुलाई 1981 में प्रधानमंत्री के प्रभार में कैबिनेट सचिवालय के एक भाग के रूप में बनाया गया था और जो कि मार्च 1982 में एक अलग विभाग के रूप में अस्तित्व में सामने आया। पहले समुद्र विकास विभाग देश में समुद्री विकास गतिविधियों के आयोजन, समन्वय और प्रोत्साहन के लिए एक नोडल मंत्रालय के रूप में कार्य करता था; लेकिन फरवरी, 2006 के बाद से सरकार ने इस विभाग को महासागर विकास मंत्रालय (एमओओडी) के रूप में अधिसूचित किया।

भारत सरकार ने महासागर विकास मंत्रालय को पुनर्गठित किया इसके उपरांत पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय (एमओईएस) 12 जुलाई, 2006 को राष्ट्रपति अधिसूचना के तहत अस्तित्व में आया, जिसके प्रशासनिक नियंत्रण में भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी), इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ ट्रॉपिकल मीटरोलॉजी (आईआईटीएम) और नेशनल सेंटर फॉर मीडियम रेंज वेदर फोरकास्टिंग (एनसीएमआरडब्ल्यूएफ) आदि शामिल है। सरकार ने अंतरिक्ष आयोग और परमाणु ऊर्जा आयोग की तर्ज पर पृथ्वी आयोग के गठन को भी मंजूरी दी।